Bootstrap Example

जे.सी. बोस विश्वविद्यालय ने क्वारंटिन सेंटर के लिए हॉस्टल देने की पेशकश की

@Deepika gaur

 जहां एक तरफ सरकारी एजेंसियों तथा स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा कोरोना वायरस से लड़ाई केे लिए हरसंभव प्रयास किये जा रहे है, इसी दिशा में पहल करते हुए जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने अपने बॉयज हॉस्टल की एक विंग क्वारंटिन सेंटर के लिए उपलब्ध करवाने की पेशकश की है। इस क्वारंटिन सेंटर में विश्वविद्यालय की यूथ रेड क्रॉस यूनिट के वाॅलियंटर्स भी जिला प्रशासन के सहयोग के लिए उपलब्ध रहेंगे। इसके अलावा, विश्वविद्यालय ने 15.43 लाख रुपये से अधिक की राशि का हरियाणा कोरोना रिलीफ फंड में योगदान दिया है।
कोरोनवायरस महामारी की मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल और राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कुलपति प्रो दिनेश कुमार ने कहा कि कोरोनो वायरस के विरूद्ध लड़ाई केवल सभी के एकजुट प्रयासों से ही जीती जा सकती है। इसलिए, इस कठिन समय में राज्य सरकार को हर संभव सहायता प्रदान करना हम सभी की जिम्मेदारी है।
प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय का बॉयज हॉस्टल मुख्य कैंपस और अकादमिक खण्ड से अलग तथा मुख्य द्वार के निकट है और छात्रावास में बैड, पेयजल तथा वाॅशरूम की भी उचित व्यवस्था है जिसका उपयोग जरूरत के समय क्वारंटिन सेंटर में बदलने के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा, विश्वविद्यालय में एक योग्य चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टाफ के साथ अपना चिकित्सा केंद्र भी है। इस प्रकार, विश्वविद्यालय जिला प्रशासन को अपना हर संभव समर्थन देने के लिए सक्षम और प्रतिबद्ध है।
कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय के यूथ रेड क्रॉस के समन्वयक सुशील पंवार और उनकी टीम द्वारा संचार माध्यमों के विभिन्न माध्यमों से कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए एक जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। इसके अलावा, विश्वविद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों द्वारा हरियाणा कोरोना रिलीफ फंड में भी अपने वेतन का 10 प्रतिशत योगदान दिया है जो कि कुल 15.43 लाख रुपये है।


Related News



Insert title here