Bootstrap Example

विधायक नरेंद्र गुप्ता पर लॉक डॉउन की स्थिति के नियम तोड़ने की खबर निकली झूठी, गलत खबरें प्रकाशित करने वाले पत्रकारों को किया सचेत।

@Anuj Sharma

जहां एक तरफ संकट की घड़ी में देश कोरोना वायरस जैसी वैश्विक माहमारी से जूझ रहा है वहीं कुछ लोग इस महामारी के चलते बनी इस संकट की घड़ी के बीच भी अपनी राजनीति चमकाने में लगे हुए हैं जिसके चलते आज बहुत ही दुखद घटना सामने आई जब फरीदाबाद शहर के ओल्ड फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्र के विधायक नरेंद्र गुप्ता पर विपक्षी पार्टी द्वारा लॉक डॉउन की स्थिति की अव्हेलना करने का आरोप लगाया गया और इस खबर की पुष्टि किए बिना कई मीडिया कर्मियों ने भी इस माहौल को राजनीतिक रुक देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। घटना आज सुबह के समय की है जब ओल्ड फरीदाबाद के विधायक नरेंद्र गुप्ता पर आरोप लगाया गया कि भाजपा की राज्य सरकार द्वारा राज्य में लगाए गए लॉक डॉउन की अव्हेलना भाजपा के ही विधायकों द्वारा कि जा रही है और एक राजनीतिक पक्ष का मोर्चा संभालने वाले पत्रकारों द्वारा बढ़ चढ़ कर इस खबर की पुष्टि किए बिना इस ख़बर को राजनीतिक रुख देकर राष्ट्रीय चैनलों पर धड्डले से चलाया गया। लेकिन जब हमने इस खबर की पुष्टि विधायक नरेंद्र गुप्ता से की तो उन्होंने बताया कि वे जब अपने पैतृक घर का रुख कर रहे थे तो उन्हें सूचना मिली कि उनकी कंपनी में लॉक डाउन की स्थिति के बाद लगाए गए बंद के बाद कंपनी के बाहर अग्रिम सैलरी लेने के लिए कुछ कर्मचारी एकत्रित हुए जिनसे बातचीत करने वे अपनी कंपनी की ओर गए। लेकिन विपक्षी दल के कुछ नेताओ ने इस बात को राजनीतिक रुख देने के लिए ये खबर फैलाई की भाजपा विधायक स्वयं नियमो की अव्हेलना कर रहे है और अपनी कंपनी में कर्मचारियों से काम करवा रहे है जिसके विपक्षी नेताओ की बातो को सत्य मानकर कुछ पत्रकारों द्वारा इस ख़बर को लगातार चलाया गया और उनकी छवि खराब करने की कोशिश की गई। साथ ही विधायक नरेंद्र गुप्ता ने कहां की उनके लिए जनता का हित सर्वोपरि है उनके द्वारा शुरू से ही इस वायरस से लड़ने के लिए सहायक सुरक्षा कारणों का ध्यान रखा जा रहा है जिसके चलते प्रशासन के आदेश के आते ही उनकी कंपनियां बंद करवा दी थी।


Related News



Insert title here