Bootstrap Example

शीतला माता करती हैं रोगों से रक्षा , माँ को लगाया जाता हैं बासी भोजन का भोग।

@Deepika gaur

होली के बाद आने वाली चैत्र कृष्ण अष्टमी को शीतला अष्टमी के रूप में मनाया जाता है ।इस त्योहार को कुछ लोग होली के आठ दिन बाद तो कुछ लोग होली के बाद के सोनवार को मनाते हैं।  
होली के आठ दिन बाद शीतला माता की पूजा की जाती है कई स्थानो पर इसे होली अष्टमी भी कहा जाता है ,तो कही आज के दिन बासोड़ा भी पूजा जाता है।
 आज में दिन शीतला माता की पूजा की जाती है और मंदिरों में मेले का आयोजन भी किया जाता है। आज के दिन लोग माता को  बासी भोजन का भोग लगाया जाता है । पूज से एक दिन पहले ही खाने की सभी सामग्री तैयार कर ली जाती हैं और आज के दिन गरम खाना ना खाया जाता है ना बनाया जाता हैं ।पौराणिक मान्यता हैं कि शीलता माता विभिन्न प्रकार के रोगों से रक्षा करती हैं 
फरीदाबाद के अनेको मंदिरों में आज भक्तों की काफी भीड़ देखी गई। लोगो सुबह से ही पूजा करने के लिए कतारों में नजर आए ।  महिलाएं पूरे श्रद्धा भाव के साथ पूजा करने के लिए मंदिर पहुँची और माता से सुख  समृद्धि की कामना की ।


Related News



Insert title here