Bootstrap Example

क्या धीरे - धीरे खंडर में तब्दील हो जाएगा राजा नाहर सिंह का ऐतिहासिक महल, जानिए।

@Anuj Sharma

फरीदाबाद शहर में हरियाणा पर्यटन विभाग के कई स्थल है जिनको हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा फरीदाबाद शहर के घूमने योग्य स्थलों की श्रेणी में रखा गया है इन्हीं स्थलों में से एक स्थल है एतिहासिक नगरी बल्लबगढ़ का राजा नाहर सिंह का महल। ऐतिहासिक दृष्टि खास महत्व रखने वाला राजा नाहर सिंह का यह महल अपने शाही आकर्षण के कारण अक्सर देश एवं विदेश के फिल्म निर्माताओं को अपनी ओर आकर्षित करता है जिस कारण इस महल में कई फिल्मों की शूटिंग भी की गई है। बात की जाए इस महल के इतिहास की तो ऐतिहासिक परिणामों के मुताबिक बल्लबगढ़ रियासत की स्थापना 1753 ई. में राजा बलराम उर्फ बल्लू के नेतृत्व में की गई थी और राजा बलराम ने ही इस महल का निर्माण करवाया था। जिसके बाद 1858 तक शाही परिवार ने इस महल में राज किया। इस महल में राज करने वाले अंतिम राजा, राजा नाहर सिंह थे जिनके नाम से इस महल को जाना जाता है। अंग्रेजो द्वारा राजा नहर सिंह को फांसी दिए जाने के बाद अंग्रेजो ने इस महल को अपने कब्जे में लिए और आजादी तक इस महल पर शासन किया। आजादी के बाद से इस महल को तहसील का रूप दे दिया गया लेकिन ठीक से रख रखाव ओर देखभाल ना होने के कारण महल समय के साथ जर्जर होता गया। जिसके बाद सन 1994 में जिले के उपायुक्त के नेतृत्व में महल के जीर्णोद्धार के लिए कमेटी का गठन किया गया और कमेटी के लोगो ने आपस में धन एकत्रित कर महल का जीर्णोद्धार किया और सन् 2003 में महल को हरियाणा पर्यटन विभाग को सौंप दिया गया जिसके बाद राजा नहर सिंह महल को होटल का रूप दिया गया और वर्तमान समय में महल में शादी एवं अन्य फंक्शन कराए जाते है। कागजी दस्तावेजों में यह महल हरियाणा पर्यटन विभाग की अमूल्य धरोहर है लेकिन पर्यटकों के लिए इस महल का महत्व धीरे धीरे समाप्त होता जा रहा है। आवश्यकता है की पर्यटन विभाग फिर से इस महल की ऐतिहसिकता में जान डालने का प्रयास करे ताकि देश एवं विदेश से आने वाले पर्यटकों के लिए यह महल फिर से आकर्षण का केंद्र बन सके।


Related News



Insert title here