Bootstrap Example

मानव रचना में बिल्डिंग सस्टेनेबल कॉम्पेटिटिव एज पर सम्मेलन

@Deepika gaur

फरीदाबाद, 25 फरवरी: फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (एफएमएस), मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (एमआरआईआईआरएस) ने दो दिवसीय MR CON 2020: ‘कॉन्फ्रेंस ऑन बिल्डिंग सस्टेनेबल कॉम्पिटिटिव एज’ का आयोजन किया। इस दौरान 64 रिसर्च पेपर्स सब्मिट किए गए और 53 रिसर्च पेपर्स प्रेजेंट किए गए। यह सम्मेलन उद्योग जगत, शिक्षाविदों और सरकार के प्रतिष्ठित लोगों, नीति निर्माताओं को एक साथ लाने के लिए एक सार्थक प्रयास था।

ग्रुप ह्यूमन कैपिटल मैक्स इंडिया के निदेशक पी. द्वारकानाथ कार्यक्रम के गेस्ट ऑफ ऑनर रहे। उन्होंने कहा कि आज के इस दौर में कुछ परिवर्तनों की भविष्यवाणी की जा सकती है जबकि कुछ में नहीं, इसलिए आज के समय को हम VUCA (Volatility, uncertainty, complexity and ambiguity) वर्ल्ड कहते हैं। उन्होंने अपने संबोधन के दौरान "इन एक्सीलेंस ऑफ सर्च" जैसी पुस्तक के बारे में बातचीत की। उन्होंने बताया कि कल जो सच था, वह आज नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि कल के प्रतियोगी आज भी मौजूद नहीं हो सकते हैं। सस्टेनेबल कॉम्पिटिटिव एडीज (एससीई) के लिए लोग, कल्चर, इनोवेशन और लीडरशिप महत्वपूर्ण हैं।

दो दिन तक चले इस कार्यक्रम में पहले दिन तीन तकनीकी सत्रों में सतत विकास, कस्टमर लीडरशिप और कल्चर एंव एथिकल गवर्नेंस पर चर्चा की गई। वहीं दूसरे दिन दो तकनीकी सत्रों में बिल्डिंप पीपल पावर और स्पीडी इनोवेशन पर चर्चा हुई।

 कार्यक्रम में फोर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के प्रोफेसर डॉ. सुबीर वर्मा, इफ्को टोकियो के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रमेश कुमार, पद्मश्री डॉ. प्रीतम सिंह, मैनेजमेंट कंसल्टेंट बिजनेंस एंड स्ट्रैटेजी वाईवी वर्मा, एमआरआईआईआरएस के वीसी डॉ. संजय श्रीवास्तव,एफएमएस के डीन डॉ. हरि अरोड़ा, एमआरआईआईआरएस के प्रोवीसी डॉ. एमके सोनी, मानव रचना के डीजी डॉ. एनसी वाधवा समेत छात्र और फैकल्टी मेंबर्स मौजूद रहे है


Related News



Insert title here