Bootstrap Example

भगवान के समक्ष मन का मंथन करने का पर्व शिवरात्रि - स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य

@Vishal Rajput

फरीदाबाद : सूरजकुंड रोड स्थित श्री सिद्धदाता आश्रम एवं श्री लक्ष्मीनारायण दिव्यधाम में महाशिवरात्रि का पर्व बड़े ही जोर शोर के साथ मनाया गया। इस अवसर पर आश्रम के अधिपति श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने सविधि पूजन कर भक्तों को प्रवचन भी कहे। उन्होंने कहा कि भगवान शिव की शिवरात्रि हमें मन के मंथन का आमंत्रण देती है। उन्होंने भक्तों से कहा कि जैसे समुद्र मंथन के अवसर पर विष के निकलने पर समस्त संसार में उथल पुथल और चिंता की रेखाओं को भगवान शिव ने मिटाया, उसी प्रकार हमें भी समाज में व्याप्त चिंताओं को अपने स्तर पर भी मिटाने का प्रयास करना चाहिए। भगवान शिव ने विष को अपने गले में रखा और नीलकंठ कहलाए वैसे ही आप और हम भी समाज का गरल अपने अंदर समेट कर केवल अच्छाई का मार्ग पकड़ें तो सच्चे गुरुभक्त और परमपिता परमात्मा की अच्छी संतान कहलाएंगे। इससे पहले स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने भगवान शिव के दिव्य रूप का पूजन कर अभिषेक किया। उन्होंने यहां षोडशोपचार विधि से भगवान शिव का अभिषेक कर भक्तों को आशीर्वाद प्रदान किया। इस अवसर पर दिल्ली एनसीआर से बड़ी संख्या में भक्त जुटे और उन्होंने अपने आराध्य का अभिषक एवं गुरु महाराज से आशीर्वाद प्राप्त कर कामनाएं मांगी।


Related News



Insert title here