Bootstrap Example

आपके इलाके के सरकारी स्कूल का सच जान के दंग रह जाएंगे आप ।

@Vishal Rajput

पढ़ेगा इंडिया तब ही तो बढ़ेगा इंडिया का नारा देश प्रदेश हर जगह सुनाई दे रहा है और लगभग सभी लोग इस बारे में जानते है , लेकिन ज़मीनी स्तर पर यदि देखा जाए तो ये बाते केवल कागज़ो में दबी रह गई है । यहां तक कि सरकार बार बार ये जताती है कि अधिकारियों के बच्चों को भी सरकारी स्कूल में पढ़ना चाहिए पर अधिकारियों के बच्चे इन स्कूलों में नहीं जाते इसका कारण ये है कि सरकारी स्कूलों में सुविधाएं बेहद कम है या यूं कहें ना के बराबर है । सरकारी स्कूल से आने वाली खबरें भी कई सवाल उठाती है। कई सारी उम्मीदों के साथ जब मां बाप अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ने के लिए भेजते है ये सोच के की वे एक दिन उनके सपनों की पूरा करेंगे । लेकिन उसी स्कूल में ठीक से बैठने कि जगह भी ना हो तो मां बाप की आशा सिर्फ ख्यालों में रह जाती है ।ऐसी परिस्थिति कोई भी मन लगाकर नहीं पढ़ सकता है। ऐसी ही एक घटना गांव दौलताबाद के प्राथमिक पाठशाला में देखने को मिल रही है ।इस स्कूल में पीने के पानी और टॉयलेट की कोई सुविधाएं नहीं है । स्कूल के मैदान का माली मैदान में सब्जियां उगाता है ।बच्चे ही देश का भविष्य है अगर यदि सरकारी स्कूलों की हालत ऐसी ही रहेगी तो सरकार उनके भविष्य के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ कर रही है ।कब सरकार की आंखे खुलेगी और इन सरकारी स्कूलों की खस्ता हालत को ठीक करता जाएगा । हमारे एक फॉलोअर ने एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमें इस खबर तक पहुंचाया है ,यदि आपके घर के आस पास भी समस्याएं है और चाहते है कि हम उस समय को दिखाई तो आप हमसे निसंदेह संपर्क करें सकते है ।


Related News



Insert title here