जोकि एक मिशन पर काम कर रहे हैं, जिसका नाम "यूथ आगेंस्ट रैप" है जो 25 मई 2019 को एक इंस्टाग्राम के पेज से शुरू हुआ था l इस मुहिम को शुरुआत हरियाणा के हिसार के एक 23 वर्षीय युवा है , जोकि "यूथ आगेंस्ट इंनजस्टिस फाउंडेशन" के संस्थापक "पीयूष मोंगा" ने की थी. जिनका मकसद देश के युवाओं को एकजुट कर समाज के दुष्कर्म जैसी गंभीर बीमारी को दूर करना है l
इसके लिये हमने सोशल मीडिया का सहारा लिया l
आज देश के विभिन्न राज्यों के युवा एकजुट कर अपनी टीम बनाकर काम कर रहे हैं l जो दुष्कर्म और रैप के झूठे आरोप लगाकर मासूमों को फ़साने वालों के खिलाफ लड़ रहे हैं 
पीयूष मोंगा ने 17 अक्टूबर 2019 को जन्तर-मन्तर से साईकिल के माध्यम से देश के विभिन्न राज्यों में जाकर लोगों को जागरूक करने का अभियान छेड़ा है l

"> जोकि एक मिशन पर काम कर रहे हैं, जिसका नाम "यूथ आगेंस्ट रैप" है जो 25 मई 2019 को एक इंस्टाग्राम के पेज से शुरू हुआ था l इस मुहिम को शुरुआत हरियाणा के हिसार के एक 23 वर्षीय युवा है , जोकि "यूथ आगेंस्ट इंनजस्टिस फाउंडेशन" के संस्थापक "पीयूष मोंगा" ने की थी. जिनका मकसद देश के युवाओं को एकजुट कर समाज के दुष्कर्म जैसी गंभीर बीमारी को दूर करना है l
इसके लिये हमने सोशल मीडिया का सहारा लिया l
आज देश के विभिन्न राज्यों के युवा एकजुट कर अपनी टीम बनाकर काम कर रहे हैं l जो दुष्कर्म और रैप के झूठे आरोप लगाकर मासूमों को फ़साने वालों के खिलाफ लड़ रहे हैं 
पीयूष मोंगा ने 17 अक्टूबर 2019 को जन्तर-मन्तर से साईकिल के माध्यम से देश के विभिन्न राज्यों में जाकर लोगों को जागरूक करने का अभियान छेड़ा है l

"> News Bootstrap Example

निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिये यूथ आगेंस्ट इंनजस्टिस फाउंडेशन के युवाओं ने विरोध जता कर की आरोपीओ को फाँसी मांग

@Deepika gaur

हमारे समाज मे  बढ़ते रैप और झूठे रैप केस और कमज़ोर जूडिशल सिस्टम के खिलाफ यूथ आगेंस्ट इंनजस्टिस फाउंडेशन के युवाओ ने एक शांतिपूर्ण रैली निकाल कर अपना विरोध जताया यह रैली फरीदाबाद शहर के बी के अस्पताल से शुरू होकर सेक्टर 12 कोर्ट पर जाकर समाप्त हुई l
इस रैली में युवाओं ने एकजुट होकर, एक बुलंद आवाज बनकर, जूडिशल सिस्टम को जगाने का प्रयास किया ताकि निर्भया रैप केस के दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा सुनाई जा सके वही जहा निर्भया रैप केस जो 2012 में हुआ था, जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया था और इस केस को 7 साल से अधिक हो चुके हैं लेकिन इस केस के दोषियों को अभी तक फांसी नहीं दी गई, जिससे ये साबित होता है कि हमारा जूडिशल सिस्टम कितना धीमा है वही इसके खिलाफ  युवा एकजुट होकर, इस शांतिपूर्ण रैली मे बैनर और पोस्टर के माध्यम से सरकार को एक संदेश देने की कोशिश कर रहे है  कि देश का युवा अब रुकने वाला नहीं है... देश में बढ़ रहे दुष्कर्मो के लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही सजा निर्धारित होनी चाहिए... जो है "फांसी" जोकि जल्द से जल्द दोषियों को होनी चाहिए l इस रैली में 16 से 28 साल के युवा शामिल हुये l
जोकि एक मिशन पर काम कर रहे हैं, जिसका नाम "यूथ आगेंस्ट रैप" है जो 25 मई 2019 को एक इंस्टाग्राम के पेज से शुरू हुआ था l इस मुहिम को शुरुआत हरियाणा के हिसार के एक 23 वर्षीय युवा है , जोकि "यूथ आगेंस्ट इंनजस्टिस फाउंडेशन" के संस्थापक "पीयूष मोंगा" ने की थी. जिनका मकसद देश के युवाओं को एकजुट कर समाज के दुष्कर्म जैसी गंभीर बीमारी को दूर करना है l
इसके लिये हमने सोशल मीडिया का सहारा लिया l
आज देश के विभिन्न राज्यों के युवा एकजुट कर अपनी टीम बनाकर काम कर रहे हैं l जो दुष्कर्म और रैप के झूठे आरोप लगाकर मासूमों को फ़साने वालों के खिलाफ लड़ रहे हैं 
पीयूष मोंगा ने 17 अक्टूबर 2019 को जन्तर-मन्तर से साईकिल के माध्यम से देश के विभिन्न राज्यों में जाकर लोगों को जागरूक करने का अभियान छेड़ा है l


Related News



Insert title here