Bootstrap Example

हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की महत्वाकांक्षी परियोजना बाल सलाह,

@Deepika Gaur

परामर्श व् कल्याण केन्द्रों की स्थापना के अन्तर्गत पिछले दिनों जिला फरीदाबाद के सेक्टर-49 की सैनिक कॉलोनी स्थित सेंट जॉन स्कूल में अध्ययनरत बच्चों के लिए परामर्श केन्द्र स्थापित किया गया था | परामर्श केन्द्र की प्रायोजित सेवाओं को प्रसारित करते हुए स्कूल प्रांगण में एक सेमिनार का आयोजन किया गया | जिसमें "मनोवैज्ञानिक परामर्श के माध्यम से माता-पिता का दोस्ताना रूपांतरण" विषय पर राज्य परियोजना नोडल अधिकारी, अनिल मलिक ने अपने विचार रखे | सेमिनार में अनिल मलिक में कहा कि माता-पिता को बाल्यावस्था से ही बच्चों के शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य का विशेष तौर से ध्यान देना चाहिए ताकि बच्चों का चहुँमुखी विकास हो सके | बच्चों के शारीरिक विकास हेतु प्रोटीन युक्त भोजन तथा मानसिक विकास के लिए पाठ्यक्रम की शिक्षा के साथ-साथ मैदानी खेलकूद के मौके, सुडोकू क्विज या पजल्स इत्यादि भी जरूरी हैं | बच्चों की अगर खेलों में रुचि होगी तो बहुत बेहतर होगा और उससे भी महत्वपूर्ण है उनका भावनात्मक नियंत्रण | भावनात्मक तौर पर बच्चे दृढ़ बनें, इसके लिए माता-पिता को बच्चों के साथ दिल खोल कर सारी बातें करनी चाहिए | अभिभावकों को यह समझना चाहिए कि जैसे-जैसे बच्चों की उम्र बाल्यावस्था से बढ़ने लगती है, वे अपने आस-पास के वातावरण व् व्यक्ति विशेष को बहुत नजदीक से ऑब्जर्व करते हैं | बच्चों के साथ जैसा व्यवहार किया जाता है, बच्चे वैसी ही सीख लेते हैं | बच्चों को किसी का व्यवहार, बातचीत का तरीका या कोई अंदाज अच्छा लगता है तो वे उसे अपने जीवन का रोल मॉडल बना लेते हैं, फिर चाहे वो माता-पिता हों या समाज का कोई अन्य व्यक्ति | इसलिए माता-पिता को व्यवहारिक तौर पर खुद अपने चरित्र तथा व्यवहार में ऐसे परिवर्तन डाल लेने चाहिए जैसे कि वो अपने बच्चों से उम्मीद करते हैं | अपने बच्चों की कभी भी दूसरे बच्चों के साथ तुलना नहीं करनी चाहिए | उनकी क्षमता क्या है या किस क्षेत्र में उनकी रुचि है, सबकी जानकारी रखते हुए ही उन्हें जीवन में आगे बढ़ने के मौके देने चाहिए | ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठा व् पारदर्शिता जीवन में बहुत जरूरी है, चरित्र निर्माण के लिए यह सीख बच्चों को दें, लेकिन शाब्दिक नहीं व्यवहारिक तौर पर | शिक्षण, घरेलू व् सामाजिक संस्थाओं को बच्चों के बेहतर उत्थान के लिए बढ़-चढ़कर कार्ययोजनाएं तैयार करनी चाहिए | इसी सोच के साथ हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद अपनी मनोवैज्ञानिक परामर्श की सेवाएं स्कूली स्तर पर पहुंचकर यह जिम्मेदारी बखूबी निभा रही है | बाल कल्याण की इस योजना को अपने अनुभवी, कर्मठ व् सामाजिक मनोभाव लिए परामर्शदाताओं की टीम के साथ खुद अनिल मलिक धरातल पर पहुंचा रहे हैं | कार्यक्रम के सफल आयोजन में राज्य परियोजना संयोजक उदय चन्द का विशेष योगदान रहा


Related News



Insert title here